No Widgets found in the Sidebar

आर्थिक मंदी झेल रहे पाकिस्तान के लिए एक और बुरी खबर है। ग्लोबल टेरर फाइनेंसिंग वॉचडॉग फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने साफ किया हैFATF की निगरानी में पाकिस्तान देशों की ‘ग्रे लिस्ट’ में बना रहेगा.

एफएटीएफ का कहना है कि पाकिस्तान ने टेरर फाइनेंसिंग और मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर शर्तों को पूरा नहीं किया है.FATF चीफ ने अपने बयान में कहा कि इस संबंध में निर्णय ऑनसाइट दौरे के बाद लिया जाएगा।
अक्टूबर 2018, 2019, 2020, अप्रैल 2021, अक्टूबर 2021 और मार्च 2022 में हुए एफएटीएफ रिव्यू में भी पाकिस्तान को राहत नहीं मिली थी. इस दौरान पाकिस्तान में आतंकी संगठनों को विदेशों से और घरेलू स्तर पर आर्थिक मदद मिली है. एफएटीएफ की ब्लैक लिस्ट में ईरान और उत्तर कोरिया शामिल हैं. अगर ऑनसाइट दौरे में पाया जाता है कि इसकी कार्रवाई टिकाऊ है तो इसे हटा दिया जाएगा। प्लीयर ने आगे कहा कि अक्टूबर से पहले एक ऑनसाइट निरीक्षण किया जाएगा और पाकिस्तान को हटाने की औपचारिक घोषणा की जाएगी।

एफएटीएफ के अध्यक्ष मार्कस प्लीयर ने कहा कि हमारी एक टीम अक्टूबर से पहले पाकिस्तान जाकर, ऑनसाइट शर्तों को पूरा करने के उसके दावों का परीक्षण करेगी, जिसके बाद पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट से बाहर निकालने का फैसला किया जाएगा.एफएटीएफ के अध्यक्ष मार्कस प्लीयर ने कहा, “पाकिस्तान को आज ग्रे लिस्ट से नहीं हटाया जा रहा है।

By admin