No Widgets found in the Sidebar

Share Market को डुबोने में विदेशी निवेशक कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं। ऐसा इसलिए कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) का भारतीय बाजारों से निकासी का सिलसिला जारी रहा।बाजार के जानकार सुमित बगड़िया के मुताबिक, छोटी अवधि में अच्छे रिटर्न के लिए कोल इंडिया अच्छा विकल्प है

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, इस तरह 2022 में एफपीआई अबतक 1.69 लाख करोड़ रुपये के शेयर बेच चुके हैं।आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने मई में शेयर बाजारों से कुल 39,993 करोड़ रुपये की निकासी की है। भारतीय बाजारों में कमजोरी की एक बड़ी वजह एफपीआई की निकासी ही है।

बाजार के जानकार सुमित बगड़िया के मुताबिक, छोटी अवधि में अच्छे रिटर्न के लिए कोल इंडिया अच्छा विकल्प है. अल्पकाल में निवेशक इस शेयर से 10 से 12 फीसदी रिटर्न कमा सकते हैं.

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने हालांकि कहा कि अब एफपीआई की बिकवाली की रफ्तार धीमी हुई है।

अगर किसी स्टॉक पर आप दांव लगाना चाहते हैं तो आप टाटा मोटर्स पर आंखें मूंदकर दांव लगा दीजिए. आने वाले समय में यह स्टॉक बेहतरीन रिटर्न देगा. जी हां, शेयर बाजार के एक्सपर्ट सुमित बगड़िया के सबसे पसंदीदा शेयरों में टाटा मोटर्स का भी नाम शामिल है. उ

By admin