No Widgets found in the Sidebar

उत्तर प्रदेश के साथ ही समूचे देश में ज्ञानवापी मस्जिद के मुद्दे को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है.देवबंद के ईदगाह मैदान में जमीयत उलमा-ए-हिंद के तत्वधान में दो दिवसीय कार्यक्रम सुबह 9 बजे से शुरू हो गया।

इजलास का शुभारंभ जमीयत उलमा-ए-हिंद का झंडा लहरा कर किया गया है। तिलावत-ए-कुरान पाक दारूल उलूम के उस्ताद कारी अब्दुल रउफ ने की और नात-पाक कारी अहसान मोहसिन ने पेश की। इस अधिवेशन में 25 राज्यों से लगभग 2000 मुस्लिम संगठनों के लोग शामिल होंगे. इस अधिवेशन में आम जन शिरकत नहीं करेंगे.

जमीयत प्रमुख मौलाना महमूद मदनी की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में दारुल उलूम के मोहतमिम मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम, जमीयत उलमा हिंद पश्चिम बंगाल अध्यक्ष और ममता सरकार में मंत्री मौलाना सिद्दीकउल्ला चौधरी, सांसद मौलाना बदरूद्दीन अजमल और सभी प्रदेशों के अध्यक्षों सहित देशभर के उलमा शामिल हो रहे हैं।

इस बैठक में देश के मौजूदा हालात और ज्ञानवापी समेत विभिन्न धार्मिक स्थलों को लेकर बढ़ रहे विवाद कॉमन सिविल कोड, मुस्लिम वक्फ बोर्ड आदि पर विशेष चर्चा होगी.

By admin