No Widgets found in the Sidebar

कोविड महामारी आए दो साल का वक्त बीत चुका है. लेकिन अभी भी कोरोना वायरस की आंख मिचौली जारी है. इस बीच फाइजर ने यह दावा अपने शुरुआती आंकड़ों के सामने आने के बाद किया है। वैक्सीन के लिए सुरक्षा डेटा 5 साल से कम उम्र के 1,678 बच्चों पर आधारित है.

फाइजर के चेयरमैन और सीईओ अल्बर्ट बौर्ला ने कहा, “ये टॉपलाइन सुरक्षा, इम्युनोजेनेसिटी और प्रभावकारिता डेटा उम्मीदों से बढ़कर मिला है। हम जल्द से जल्द नियामक प्राधिकरण के अधीन, छोटे बच्चों के लिए इस वैक्सीन को जल्द से जल्द उपलब्ध कराने की ओर कदम बढ़ाएंगे।”

Pfizer-BioNTech का कहना है कि उनका टीका 80.3 फीसदी असरदार है. ये वैक्सीन टेस्ट तब किया गया जब ओमिक्रॉन यानी मौजूदा वैरिएंट अपना कहर बरपा रहा था.

तीन खुराक वाले Pfizer-BioNTech के टीके का 1678 बच्चों पर टेस्ट किया गया था. जिनकी उम्र पांच साल से कम थी. बच्चों पर वैक्सीन टेस्ट करते वक्त सभी तरह की सावधानियां भी बरती गई थीं.

 

By admin